पूर्व छात्र परिषद बैठक का किया गया आयोजन गौरव बने प्रांतीय संयोजक

 

13/12/2020 को सरस्वती विद्या मंदिर इंटर काॅलेज मायापुर हरिद्वार में विद्या भारती उत्तराखंड प्रांत के पूर्व छात्रों की बैठक का आयोजन किया गया जिसमें उत्तराखण्ड के सभी 13 जिलों से आये 100 पूर्व छात्रों ने प्रतिभाग किया।विद्या भारती शिक्षा के क्षेत्र में कार्य करने वाला सबसे बड़ा गैर-सरकारी संगठन है जो कि अपने संस्कार और शिक्षा के लिए जाना जाता है। इस संस्थान से पढ़े कई छात्र आज देश के विभिन्न क्षे़़त्रों जैसे शिक्षा, सामाजिक कार्य, प्रशासन,व्यवसाय आदि में कार्यरत हैं।
बैठक में मुख्ये अतिथि रहे पश्चिमी उत्तर प्रदेश क्षेत्र के संगठन मंत्री श्री डोमेश्वर साहू ने कहा कि विद्या भारती के संपूर्ण भारती में लगभग 30000 शिक्षण संस्थान हैं जिनमें लगभग 45 लाख छात्र-छात्राऐं अध्ययनरत हैं। पूर्व छात्र हमारी ताकत है व समाज में हमारी पहचान है। सभी छात्रों का अपने विद्यालय से एक विशेष प्रकार का जुड़ाव रहता है और वह यह भी चाहता है कि स्थान से उसका भविष्य बना उसके लिए कुछ न कुछ अवश्य करे। बैठक में संगठन मत्री जी ने कहा आज विद्या भारती पूर्व छात्र परिषद विश्व का सबसे बड़ा पूर्व छात्रों का संगठन बन गया है। जिससे 3.56 लाख पूर्व छात्र जुड़े हैं।पूर्व छात्रों ने अपने संस्कारों का परिचय देत हुए कोरोना माहमारी में भी कई दुर्गम स्थानों में भोजन पैकेट,दवाईयां,मास्क वितरण आदि जैसे सेवा कार्यों में बढ़ चढ़कर अपना योगदान दिया। बैठक में अखिल भारतीय पूर्व छात्र सह संयोजक राहुल ने पूर्व छात्र पोर्टल के बार में भी बताया कि किस प्रकार उसमें रजिस्ट्रेशन करे तथा उसके उपयोग के बारे में जानकारी दी।
बैठक में पूर्व छात्रों ने अपने अनुभव कथन भी सुनाए। जिसमें भूतपूर्व सैनिक भारतीय सेना देवेन्द्र सिंह बिष्ट ने कहा फौज से रिटायर होने के बाद विद्या भारती के संस्कारों से प्रेरित होकर समाज मे महिला सशक्तिकरण का बीड़ा उठाया है जिसके लिए उन्होंने तजस ग्र्रुप एण्ड एसोसिएट नामक संस्था बनाई है जो कि ‘‘पहाड़ की ओर बढ़ते कदम ’’ थीम पर आधारित है। इस अवसर पर उत्तराण्ड प्रांत की प्रांत कार्यकारिणी की भी घोषणा की गई जिसमें हल्द्वानी के गौरव जोशी को पूर्व छात्र का प्रांत संयोजक बनाया गया। बैठक में श्री भुवन जी, डाॅ. रजनीकांत शुक्ल,डाॅ़. विजयपाल सिंह,सत्यप्रसाद बंगवाल,अजय जी, अभिषेक,संजय गोस्वामी,सिद्धान्त आदि उपस्थित रहे।